Friday, December 31, 2010

भीगी आँखें...

भीगी आँखें
जाने क्या-क्या कह गयीं
किसी को दर्द
किसी को सुकून
तो किसी को प्यास दे गयीं
डूबते हुओं को
मिल गए अपने-अपने किनारे
अनकही रहकर
वे सबकुछ कह गयीं...

आईने से कह रहीं थी कल
एक जोड़ी अदद आँखें
दोस्त भी हम अच्छे हैं
और इंसान भी
कमी थी तो बस
अपने-आप को पहचानने की
सो अंदाज़न रह गई...

हर सूरत में
दिखाने लगीं जब वो रब
तो इबादत हुई
यार से लगने लगे जब सब
तो मोहब्बत हुई
आशिकों की तरह
करे हर ज़िक्र में
दीदार वो अपने महबूब का
सजदे में होतीं हैं वो बंद
सो रस्मन हो गयीं...

जिसने जो ढूंढा
उसको वही मिला
खोजती आँखों को बस
खोजी ही मिला
और मिलता भी क्या
सिवाए उसके
घुल-मिल जातीं हैं
वो हर रंग में
सो आदतन घुल गयीं...

मुक्त हो जातीं हैं
गर फ़रिश्ते उन्हें लेने आयें
मर जातीं है
गर बिछड़ने का डर उन्हें सताए
वक़्त रहते
आँखें बरबस हमें नींद से उठायें
सो गालिबन उठा गयीं...

नवाजे गए हैं हम
हर वक़्त उसकी रहमतों से
घिरे रहें फिर हम
अगर के मगरों से
तो वे क्या करें
बस यूँ समझ लीजिये की
ये सारा जहाँ है उन्ही की बदौलत
फिर आँख वालों को
अक्ल अँधा कर जाती है
सो मजबूरन कर गई...

काम का तो यहाँ
कुछ भी नहीं
ना याद
ना तनहाई
ना रिश्ते-नाते
ना ही खुदाई
समझ में आ सके
ऐसा भी यहाँ
कुछ नहीं
ना अपने
ना पराये
ना मंज़िल
ना ही कोई ऊँचाई
सोचते रहते हम फिर भी
अपने नफे-नुकसान की
हर पल झपक-झपक
तू अमर नहीं
तू अमर नहीं
कहना है काम
इन आँखों का
सो रुखसतन कह गयीं...

ज़िन्दगी ये है
ज़िन्दगी वो है
कह कह कर
जड़ दिए हमने
ज़िन्दगी पे ढेर सारे तमाचे
एक इलज़ाम
लगाये जो इंसान खुद पे
तो आँखें नम हो जाएँ
सो दफ्फतन हो गयीं...

जब भी दूसरों में
खुदा देखने की
मगरूर इंसानी हसरत
अपना शैतानी मुँह
उठाती है मुझमें
आईना दिखा
शर्मसार कर जातीं हैं ये आँखें
सो हक़ीक़तन कर गयीं...

सुबह से प्यासा
रख छोड़ने वालों ने
सर-ए-शाम मयखाना खोला है
तुर्रा उसपर ये
की जाम गीन-गीन के पिलाए जायेंगे
शुक्र मनाओ 'मनीष'
की आँखें भी पीना जानतीं हैं
सो पी गयीं....

और अब ये हाल है की

तेरा नाम ले

तुझे पुकारना

अच्छा लगता है

यूँ खुद को

सुनना - सुनाना

अच्छा लगता है

तेरा नाम ले

छेढ़ते है मुझे

ये दुनियाँ वाले

तेरे नाम से

यूँ जाने जाना

अच्छा लगता है..............................

खुदा हाफ़िज़ 

Wednesday, December 29, 2010

Art of Messaging

Here are a few text messages that i sent in response to the various forwarded messages that i received.

 It is my observation that people forward those text messages which they genuinely like but when i reply them with my truth - they get irritated. A series of texting then starts to back up our arguments. At the end of it they ask me as to why do i take text messages so seriously and then when i counter question as to why shouldn't i - they laugh.

i ask whether all things that they do utter is a gibberish and should i start ignoring their text messages?

Should i consider everything that they say to me in person or through texting as a time-pass activity bearing no relevance to their being or our relation?

They feel scared to answer in affirmative because that would mean that i would give a damn even to that which they want me to take seriously. Words like - I love you, You are my best friend, Happy new year etc. would be equated to so called 'Thought of the day', 'Best lines', 'Heart touching sms' etc.

if they do answer in affirmative i keep on pestering them with messages that i know would irritate them no end.

i firmly believe that there is a psychology that works behind sending a particular message to a particular person. We do not forward all the text messages that we receive. We delete some immediately; we save others promptly. Most of the time we save and forward those messages which match our own thinking or philosophy of life. When this belief gets challenged by someone like me - we are quick to term the challenger of belief as a moron. The idea of objectively questioning the inherent message in our beliefs never does occur to us. Even when it does occur, we find some selfish justifications that suit our being to rule out any change in our personality. The comfort zone reigns supreme.

Strong reactions then follow;

Some stop messaging me altogether, some employ caution in doing so while others think twice before sending me a forwarded message. Then there are those too who start to dissect me instead of my responses. Few think that it is some kind of game that i engage into to prove that my thinking or being is superior to them. A few others wonder if it is my joblessness that makes me so free to respond to each and every message that i receive.

Well, i do send atleast a thousand messages a month. Thanks to BSNL that it costs me only twenty rupees now.

You can call me a die-hard texter, message stalker, king of sms or whatever you please. i know what i am and hence your name-calling does not bother me. No, i will not even politely say that i am nothing and a nothing need not worry about anything. Instead, i will insist that i am nothing less than everything.

The fact is that i rarely send forwarded messages. Most of my messages get created in response to the pathetic forwarded messages that i receive. Few of my messages are poetic while others are generous sharings of my life experiences. i love to communicate through text messaging and see to it that the communication is as honest as a word can be. i simply detest diplomatic, over the top, sorrowful, senti, cheap, vulgar messages and spare no time in responding to them appropriately. i am being adorned with the customary titles of being rude, intolerant, egotist, arrogant, selfish, and what not.

Trust me all these titles motivate me even more to continue my mission.

Why do i do this? What is my mission? Am i a sadist?

Well, i do this because i am aware of the importance of being in the NOW and HERE.

Text messaging is an excellent tool to be aware and awake in the now and here. Unlike forwarding stupid messages stupidly, texting requires us to type - that automatically brings in the now and here. More over, when you dare send a message to an admonisher like me, you are very attentive and careful of what you are texting or forwarding - that too helps a lot in making you alive to the present moment. The un-necessary talkativeness is reduced to necessary speech.

Even then when i keep on challenging those carefully selected messages by summarily dismissing part or entire content - you get hurt. i persistently keep on hurting your sentiments till my perseverance leads you to a stage where you either loose interest in messaging if you are a coward or you start to see yourself different or separate from your own thought if you are courageous enough.  In both cases a sort of detachment sets in which in itself is a victory of the spirit. The gross attachment from me and my message is negated which allows you to observe the subject matter of the message objectively and clearly. You then no more remain slaves of your own thoughts, pre-conceived notions or prejudiced beliefs. That is a big step taken by in the direction of seeing you as you and not as what you think. You are now gradually getting aware of the free willing spirit that rules your mind and not vice-versa.

Yes. i am rude. i am intolerant. i am egotist. i am arrogant. i am selfish and yes i am a sadist...
Tell me Oh mother, do you not rudely slap your child when she eats mud inspite of your cautioning?
Tell me Oh father, are you not intolerant of the son who plays with fire?
Tell me Oh you friend of friend, would you not be egotist if it comes to curbing down the ego of your dear friend?
Tell me Oh lover, shall you not be selfish in bringing happiness to your lover?
Tell me Oh God, do you not inflict pain & sorrow upon us so that we may know the virtue of pleasure & joy?
Tell me Oh reader, would you not share that state of being which is beyond the parable of joy & sorrow and is a bliss?

Tell me,
please do tell me...
i sincerely await your response...


Now sample a few text messages of mine :

51 hours from NOW...





Nothing is gonna change..
if we do not.


Each day is a god day...
Every hour is god sent...
Every moment is a god gift...
It is all about how YOU take it...
SAINT OBSERVS............................

After all,

A man's definition of foreplay..??




Half an hour of serious begging..!!


That of a woman's..?/







[ well, its blank...........for it ends before it starts ]

Philosophers and their philosophies can never be termed great, if they ever remain confined to just the spoken word.

TODAY IS TOO BIG A UNIT FOR ME TO GIVE IT MY BEST....instead i try to be as meditative as i can be in each & every moment of this precious life.

Honesty is not a risk but a virtue...nay...a few chosen ones do not even call it a virtue - it is just a natural way of life for them.

The ability to overcome challenges fall like a pack of cards when the intent is not TRUTHFUL.

may this...
may that...
best this...
worst that...
future planning...
past regrets...
Ah !
mind dwells in all these and more but  dies in this very moment.

LIFE is plain & simple but only to those who are as fearless, as trusting & as innocent as a child is.
Remember - "child-like" & not "childish"


One is bound to be a complete failure if one works or struggles for reward of SUCCESS.

One is surely a success if one works or struggles because one just enjoys it.

Politicians are good-natured and yes, they do win elections too...
Trees good-heartedly give their all and yet forge not relations...
WE are WHAT we CHOOSE to BE.

my mind is nothing without me..
with me it creates everything around me..


man but, and mind you man and only man is gifted with the free will to be what he pleases to be - GOD, BAD or UGLY...
man, barring a few awakened ones have hitherto chosen to be a bad case...

Man Is Bad Kase........isn't he?

Saturday, December 18, 2010

नहीं जानता...

क्यों हो जाता हूँ मैं इस कदर परेशान, नहीं जानता...
क्यों देखना चाहता हूँ मैं इंसान को इंसान, नहीं जानता...

यूँ तो रोज-रोज होता जाता है इंसान, हैवान से शैतान,
क्यों दिखाई दे जाता फिर भी उसमे भगवान्, नहीं जानता...

छलियों की एक फ़ौज सी खड़ी है तुम्हारे इर्द-गिर्द,
क्यों गुलाब, क्यों होते नहीं तुम लहू-लुहान, नहीं जानता...

चोर-उचक्कों की बारात के दुल्हे क्यों ना होंगे राजा,
क्यों मुसलसल मगर फकीर का ईमान, नहीं जानता...

जिसे देखो रातों-रात सितारा बन जाने की जुगाड़ में लगा है,
क्यों मगर सूरज को जलना इतना आसान, नहीं जानता...

देख कर ये भीषण महामारी, लग जाते हैं वो इलाज में,
क्यों होते कड़वे मगर ये मसीहाई निदान, नहीं जानता...

अपने में ही मस्त रहना सिखाते हैं मुझे ये दुनिया वाले,
क्यों कोयल मगर गाती सावन की अजान, नहीं जानता...

मेरी ही तरह रोता है हर शख्स ज़माने की बदहाली पर,
क्यों उसे मगर खुद की नेकी का गुमान, नहीं जानता...

नहीं जानता ये नामाकुल 'मनीष' ज़रा भी, कुछ भी,
क्यों मगर जानने वाले बने बैठे हैं नादान, नहीं जानता...

क्या आप जानते हैं......?????

Saturday, November 20, 2010

किसी ने क्या खूब कहा है...

"ज़िन्दगी तस्वीर भी है और तकदीर भी.."

मनचाहे रंगों से बने तो तस्वीर...

अनचाहे रंगों से बने तो तकदीर.....!!..

हम बोल उठे :

क्यों चाहते हो कुछ..??
क्यों कुछ तुम्हें पसंद है और कुछ नापसंद..??

की जब की ;
लिख रखी तकदीर में उसने पूरी की पूरी काएनात है..

खा बैठा में सेब इल्म का ये अलग बात है..

क्या करता..की वो सेब था ही बड़ा लजीज..

आज़ादी, बाद गुलामी के..!!..

वाह भई वाह..क्या बात है.....!

Tuesday, November 16, 2010


वो जो दोस्ती का दम भरते हैं,
वो जो इश्क का ग़म करते हैं,
सितारे नहीं बादल हैं वो कारे-कारे,
चंदा की चांदनी को जो कम करते हैं..

दोस्ती एक बालिश्त बराबर भी उम्मीद नहीं रखती,
ना वफ़ा की
ना जफा की..
बस एक झरना है पल-पल बहता
जो नदी बन जाए तो काफ़ी है..!!

दोस्ती आसरा नहीं
ना ही वो कोई सहारा है..
बस एक सिलसिला है इश्क का
जो बन जाए तो काफ़ी है..!!

दोस्ती ना जरुरत है
ना है कोई इत्तेफाक..
बस एक नगमा है सुकून भरा
जो गा लिया जाए तो काफ़ी है..!!

ना वक़्त गुज़ारने का ज़रिया है दोस्ती
ना ही fb पे लगी गपोड़ों की कोई चौपाल है दोस्ती..
बस एक हुनर है खुद को पा लेने का
जो पा लिया जाए तो काफ़ी है..!!

फ़क़त हँसी-ठट्टा नहीं है ये दोस्ती
ना ही गाली-गलोच से होती मजबूत ये दोस्ती..
बस एक यकीन है बे-तकल्लुफ  सा
जो आ जाए एक-दूजे पर तो काफ़ी है..!!

दोस्ती झूठ की हमदर्द नहीं
ना ही वो है सच की तलबगार..
बस एक बारिश है सतरंगी सी
ज़रा भीग लिया जाए तो काफ़ी है..!!  

Monday, November 15, 2010

क्या करूँ..?

तेरे होते क्या हो सकता है मुझे..?
तेरी दुआओं की चादर चढ़ी हुई है मुझ पर..
कोई मुझे छु कर भी छु नहीं पाता,
और तुम..!
तुम मुझे बिना छुए ही पूरा कर देते हो..

समझ नहीं पा रहा फिर भी  की क्या करूँ मैं अपने साथ..?
ये करूँ,  वो करूँ या फिर कुछ ना करूँ मैं अब अपने साथ..?

ये करूँ तो वो नाखुश,  वो करूँ तो ये नाउम्मीद..
किस-किस की  हसरतें में पूरी करूँ,
जो  मोहब्बतन  लग गयीं है अब अपने साथ..

कुछ ना करने की जो मैं कर लेता हूँ ज़िद,
तब भी तो कुछ ना कुछ कर ही  लेता हूँ ना मैं अपने साथ..?

या खुदा..!
तू ही बता की अब मैं क्या करूँ..?
एक तेरा ही साया तो है जो अब है अपने साथ..

क्यूँ ना ख़त्म कर लूँ मैं अपने आप को..?
जब तू ही तू रहता  है हर वक़्त बस अब अपने साथ..

तौबा कर लो इस मैं की मय से
वो कहता है 'मनीष',
बका से बेहतर  फ़ना है
जो कर सको तुम अपने साथ..

[बका = sacrifice, फ़ना = dissolution]  

Friday, November 12, 2010


इकतरफा मोहब्बत में वो मजा नहीं
जो लुत्फ़ इकरार-ए-यार में है
इसी लिए..
बिखर गया वो बनकर क़ाएनात..!!
 जानता था वो बखूबी..
की इस तरह तो बिखर जाएगी मोहब्बत भी
मजा जो मगर बिछड़ कर मिलने में है
वो कायम पहलु-ए-यार में नहीं..!!

मेरे रब ने करम ये अनोखा रखा 
ख़ुशी और ग़म का संगम ये अनोखा रखा..

टूट जाता है हर ख्वाब पूरा होकर 
इसलिए हर ख्वाब मेरा उसने अधुरा रखा..

ले सकूँ लुत्फ़ मैं इस अधूरेपन का
इसलिए उसने खुद को खुदाई में गुमशुदा रखा..

हो सके एहसास मुझे उस पार का
इसलिए इस पार उसने ये किस्सा रखा..

देख सकूँ मैं उसको इसमें भी और उसमें भी
इसलिए उसने मुझको खुद सा रखा..

कर सकूँ महसूस मैं जज़्बा-ए-यकीन
इसलिए खौफ-ओ-दिलेरी का ये मजमा रखा..

अंदाज़े ही ना लगाता रहूँ ताउम्र मैं जशन के
इसलिए हार-जीत का कायम ये सिलसिला रखा..

हो सकूँ फ़ना मैं उसमें अपनी मर्ज़ी से 
इसलिए जीते जी मरने का ये हौसला रखा..

Wednesday, November 10, 2010

सिलसिले समय के..

गरीब वो नहीं                                        
जिसके पास कुछ नहीं..
गरीब वो..,
जिसके पास ज़िंदगी है 
पर होश नहीं..

होश वो नहीं
जिसमे पता चले की मैं हूँ..
होश वो..,
जो पता लगा ले के ख़त्म मेरे बाद भी होती 
ये ज़िन्दगी नहीं..

ज़िन्दगी वो नहीं
जिसमे आलिशान हो सबकुछ..
ज़िन्दगी वो..,
जिसमे परेशानी तो हो पर कर सके वो हमें 
पर-ए-शान नहीं..

पर-ए-शान वो नहीं
जिसका लुट गया हो सबकुछ..
पर-ए-शान वो..,
जिसकी निगाह में होती खुद की 
कोई शान नहीं..

शानदार वो नहीं
जिसका हो मुल्क में कुछ नाम..
शानदार वो..,
जिसको होता नाम से 
कुछ काम नहीं..

काम वो नहीं
जो किया जाता है हाथों से..
काम वो..,
जो हुआ जाता है नेकी से
 बद नीयतों से नहीं..

नियत वो नहीं
जो रखी जाती है कुछ पाने के लिए..
नियत वो..,
जो होती है हर वक़्त फिर चाहे कुछ और हो 
या हो नहीं..

होना वो नहीं
जो बन जाते है हम बुढ़ापे में..
होना वो..,
जो हो मासूम बुढ़ापे में 
पर  हो बचकाना नहीं..

बचकाना वो नहीं
जो रहता है मस्त अपनी मस्ती में..
बचकाना वो..,
जो ऊपर तो उठ गया बचपने से पर उठ सका ऊपर
तुलना से नहीं..

तुलना वो नहीं
जो सिखाती है फर्क अच्छे-बुरे में..
तुलना वो..,
जो फर्क तो करे पर जाने की कोएलों और हीरों में होता 
बुनियादी कोई फर्क नहीं..

फर्क वो नहीं
जो देख सके खुद को खुदाई से अलग..
फर्क वो..,
जो देख ले की हुआ कभी खुदा
खुदाई से जुदा नहीं..

जुदा वो नहीं
जो हो मुकम्मल अपनी तनहाइयों में..
जुदा वो..,
जो करे खुद को तनहा महसूस पर है ऐसा 
असल में नहीं..

असल वो नहीं
जो दिखाई दे साफ़-साफ़ इन नज़रों से..
असल वो..,
जिसकी तबियत छीन पाई ज़माने वालों की 
काहिली भी नहीं..

काहिली वो नहीं
जो फैली हुई है चार-सूं गंदगी की तरह..
काहिली वो..,
जिसका मोमिन को अभी
पता तक नहीं..

पता वो नहीं
जो लिखा हो घर के दर-ओ-दीवार पे..
पता वो..,
जो होता काएनात में
कभी लापता नहीं..

लापता वो नहीं
जिसका होता कोई निश्चित पता..
लापता वो..,
जिसका मकीं होकर भी होता
कोई मकां नहीं..

मकां वो नहीं
जिसकी होती है दर-ओ-दीवारें..
मकां वो..,
जिसमे होती है परवाज़ 
पे मंजिल नहीं..

मंजिल वो नहीं
जहाँ पहुँच के आदमी ठहर जाए..
मंजिल वो..,
जो पैगाम लाये सफ़र का पर साथ लाये
कोई थकान नहीं..

थकान वो नहीं
जो इजाज़त दे कुछ देर सुस्ताने की..
थकान वो..,
जो सराय को बनाती कभी 
अपना घर नहीं..

घर वो नहीं
जिसमे रहते हैं शहर के अमीर..
घर वो..,
जिससे बे-घर हो सकता
गरीब से गरीब भी नहीं..

गरीब वो नहीं..


Tuesday, November 9, 2010

सोच और सच

कैसे पता लगायें की क्या सोच है और क्या है सच..??
काश.. ये ' ओ ' की मात्र हटा देने जितना आसान होता..

किसको दें ज्यादा तरजीह - Goodness को या Godliness को..??
काश.. ये ' O ' का हिज्जा हटा देने जितना आसान होता..

यूँ तो ये इतना ही आसान है जितना दिखाई देता है..
काश.. मगर चुन लेने का  हम पर यूँ भूत सवार ना होता..

कुछ ना चुनना भी तो एक चुनाव ही है लेकिन..
काश.. सिक्के के दोनों पहलुओं का क़ुबूल मुझमे होता..

फूलों के ही दीवाने हैं सब,

कांटो से दिल कौन लगाये,

कांटे ही लिए बैठें हैं अब,

फूल तो कब के मुरझाये...

चुनने की भूल की थी तब,

अब तो यह राज़ साफ़ नज़र आए,

खुशबु बनकर महके है रब,

रब ही तो कांटो में समाये...

Friday, October 29, 2010

दो का खेल...

हर एक का अपना अलग ताना-बना है..,
ज़िद मगर आफताब की माहताब वो हो जाए..!

मुखोटों में रहने वाले
क्या जाने लुत्फ़
जो नग्न सच्चाई में है..,
झुका लेते हैं नज़र एक ज़रा रोशनाई से..!

कह दूँ जो में खुद को खुदा
तो होते हैं वो खफा..,
अमा खां..
हमने ये कब कहा की तुम शैतान हो..!

भगवान् करे ऐसा हो जाए
भगवान्  करे वैसा हो जाए..,
अरे भाई..
सब कुछ  भगवान् ही करे
पर पहले भगत का " मैं " तो मरे..!

ये ना मिल पाने की तड़प
तुम में हो तो हो..,
हम रोज मिल लेते हैं अपने आप से..!

इश्कनुमा दोस्ती की है जब
तो यूँ गमखार ना बन..,
की दूरियाँ करवा देंती हैं तार्रुफ्फ़
उस सुरजनुमा इश्क से 
जो डूबता ही नहीं कहकशां में कभी..!


दो का खेल...

कहने को तो एक ही गला है
फिर भी दोगला हो जाता है आदमी..,
दोआँखों से कुछ और  ही बोल जाता है आदमी..!

सुनता तो  है वो गाना एक ही
दोगाने का गाना मगर गाए जाता है आदमी..,
दो कानों से कुछ ज्यादा ही सुन लेता है आदमी..!

दो नैना मतवारे कैसे ना जुलम करें
देखे एक और कहे  दो जब आदमी..,
दो आँखों  से दो आलम को दूश्वार कर लेता है आदमी..!

दो साँसों का खेल है सारा
कहता है जिसे संसार ये आदमी..,
दू नाली के दम से मरते दम  हो जाता दो-चार है आदमी..!

यूँ तो दोस्ती - दुश्मनी का बोलबाला है दुनिया में
दो दिल मगर मिल जाए तो खिल जाता है आदमी..,
दिल ही दिल में दो से चार हुआ चाहता है आदमी..!

दो लगा के चल दिए
भरी दोपहरी में ' मनीष '
दुलत्ती से उनकी कब बच सका है आदमी..,
दुराग्रही, दुराचारी, दूषित दुस्वप्न है ये आदमी..!


Thursday, October 21, 2010

मुलाक़ात :

मिलो तो शिकायत करते हैं वो,

ना मिलो तो गिले रखते हैं वो..

सोचता हूँ अपना लूँ उन्ही की एक अदा,

मिल कर भी तो नहीं मिलते हैं वो..

हाथ मिलते हैं तपाक से जब मिलते हैं वो,

नज़रे मिलती हैं इत्तेफाक से जब मिलते हैं वो..

गले मिलने की रस्म भी बाखुदा निभा देते हैं वो,

दिल मिलाने की करूँ जुर्रत तो या खुदा!! चिल्ला देते हैं वो..

आते ही जाने का एलान कर देते हैं वो,

जाते-जाते फिर आने का वायेदा भी कर जाते हैं वो..

कुछ इधर-उधर की बातें, फिर मेरा हाल पूछते हैं वो,

तेज धडकनों को मेरी मौसमी बुखार कह देते हैं वो..

इश्क को मेरे दोस्ती कहते हैं वो,

दीवानगी से मेरी अनजान रहते हैं वो..

बयां पर मेरे हौले से एक चपत लगा देते हैं वो,

एक आँख दबा कर जाने क्यूँ मुस्कुरा देते हैं वो..

थाम लूँ जो वो चपत वाला हाथ तो शरमा जाते हैं वो,

आँखें फिर तरेर कर इतरा जाते हैं वो..

सीख लो तुम भी ज़माने के तौर-तरीके 'मनीष',

हमदर्दी से भरी ये ताकीद कर जाते हैं वो..

Monday, October 18, 2010

ये रावण..!!

सदियों से तो जलता आया है ये  रावण...
पल-पल फिर भी पनपता आया है ये रावण...

इस बार १०२ फीट का जलाकर भी देख लिया, न मरा,
जाने किस मिटटी का बना है ये रावण..!!

हर साल चला आता है अपने दस-दस मुहँ उठाये,
नाभि पे लगे तीरों से भी अब तो उबर चूका है ये रावण..!!

कभी हुआ करता होगा ये  बुराई का प्रतीक,
अब तो अच्छाई पर बुराई की जीत का प्रतीक है ये रावण..!!

उधर राम सारे अटके पड़े हैं जन्म-भूमि विवाद में,
इधर अपनी तादाद और शक्ति बढ़ाता जाता है ये रावण..!!

नहीं..नहीं, इस रावण की नहीं ना है जात कोई,
हर एक में एक समान विचरता है ये रावण..!!

मैं भी रावण, ये भी रावण और हाँ.. तुम भी रावण,
रावणों की भीड़ देखो जला रही लंकापति रावण..!!

देख ये तमाशा बच्चे पीट रहें हैं ताली,
सीख रहे पहला ये सबक के कभी ना मरता है ये रावण..!!

जिंदा रहता है वो हम सब के कर्मों में,
बौने राम  पर अट्ठाहस लगता है ये रावण..!!

जागो राम अब जागो तुम..!
के तुम्हारे ही पराक्रम से धाराशायी होगा ये रावण..!!

कुछ मत करो..बस हर कदम तुम होश से उठाओ,
देखें अगले बरस किस तरह फिर खड़ा होता है ये रावण..!!

दशरथ-पुत्र राम से नहीं तुम से कहता है 'मनीष',
मार गिराओ मुझको के.,
मैं ही रावण, मैं ही रावण, मैं ही रावण..........!!

Monday, October 11, 2010


Infidelity towards a person can never  happen on this planet earth.

   Do not be shocked to read the   
   statement..because it is a truth.

But then...truth is what shocks us..isn't it?
yup...most of the times it does so...

              Infidelity just happens in the mind.
Our mind tells us that we have been cheated by the other person who is now in love with someone else too.
The ego feels the hurt, not because anything substantial has changed between the two lovers, but because it feels disgusted to see that the love which he/she thought to be a sole propriety right of his/her till now, is been shared with someone else too.
It unnecessarily compares self with this third person and most of the times finds itself much better than this third entity and starts calling his/her lover as infidel, scoundrel, sex-maniac, or a cheat.
The third person also gets his/her due share of being called with derogatory names such as whore, gigolo, mistress or a home-breaker.

On very rare occasions, when the mind uncommonly yet unnecessarily accepts its inferiority in comparison to this third person, it sulks, gets depressed and tries to kill the self. 
It feels and believes that its numero uno [Number one] position has been threatened and that, he/she is dislodged from its imaginary position.
Suicidal tendencies, as also the criminal tendencies, are born out of such needless state of total despair and hopelessness.

Both the above states are indicative of the extreme positions taken by the mind and since we are attached so much to our minds and bodies that we cannot see ourselves as a separate entity altogether, we fail to feel ourselves in perfect harmony or union with our own true self. 
We are unable to remain detached with the mind-body incorporation, just as an observer is and fall prey to our own thought process. 
We know not that there is indeed a possibility of a blissful state where the mind and body is in perfect sync with each other as also with this third entity called the rational or prudent self. 
This self-observing witness then curbs the comparing and blaming tendencies of the mind, as also it controls the overbearing sexual desires to transform the mind-body instincts into love, care and compassion.

The habitual cheats, however need not feel overjoyed or solace to read the above and use it as a justification to satiate their insatiable hunger, thirst or lust. 
Know that love turns into lust the moment we desire anything out of or from it, save for the seeking of the self.

In much as the same way loyalty towards a person is also impossible.

Loyalty too is a figment of imagination of the mind, just as infidelity is. 
What is infidelity to one can be loyalty to the other…
It all depends on which part of the coin we are getting one with.
Seeing the whole coin seems to be prudent in matters of heart but our mind with its make-believe or hallucinatory powers does not readily allow the heart to over rule its decision.
The mind sticks to what it sees as truth, even when it is just a perspective, a paranoid fact or half-baked truth. 
We are bound by our own mind's decision to remain in that pathetic state of seeing only the half-truth.
No wonder then, that the other half of the truth is totally lost on us and apathy rules supreme.

Laws and rules and regulations of the land may favor the aggrieved party but are an utter failure when it comes to bringing back the lost happiness.

Life finds its own ways to over rule those laws.

It  openly makes a mockery of such stupid laws when with the turn of events the aggrieved is turned into the guilty and the oppressor is turned into an innocent. 
Moreover, if at all we pledge to adhere to those laws, they should be followed in their fullness and not just to suit our comfort.

If “cheating” is what we are opposed to then cheat we must not on any front of life…
be it bribing, evading taxes, downloading from unofficial websites or happily purchasing or taking on rent pirated DVDs/mp3s/Cd's/VCd's.

There ain't any need to forgive or forget either.

Forgiveness comes in only when we feel that we have been wronged or been taken for granted by someone. 
Also, there is no way one can forget if one has felt the hurt in the first place. 
We felt hurt because we genuinely believed that our rights have been masqueraded. 
How childish to blame someone for agonies that are born out of our own partisan beliefs?

Consensual love, or call it sex if it suits your blaming mind, is a thing between two consenting adults and third party interference is not only surpassing our own rights but in fact is poking our nose or is unsolicited indulgence in someone else’s life.

Marriage may give us legal authority to interfere and have a say on such issues but then such laws are made only for fools who believe that laws can stop or prevent people from cheating. 
Well, they would have been able to do so ages ago had there been any merits or strength of resolve in them to do so.

Polygamy is the nature of life or else it would have never created a polygamous world.
Your legal authorities should have stopped the Supremo, the Almighty Lord after S/He created a solitary rose, or this universe's first and foremost couple in the form of Adam & Eve.That way, you would not have been born to advocate about your virtual world of monogamy.
Tell me honestly,i am aware that your prejudiced mind will not allow you to be honest even with yourself but still i dare ask and challenge your candid soul to enlighten your selfish mind. 


Have you never ever dreamed about or fantasized about someone else's virtual or imaginative presence in your bed while making love with your legal spouse..??

Are we not off springs of a single couple to start with who are in fact copulating with their own brothers and sisters? That makes us incestuous too…isn't it?


The scientists in search of the start of  human life have found out in a large study that the grand grand grand...mother or nanny of all the human-beings on planet earth, some 10000 years ago, was a single lady - call her Eve. 
The scientists have traced the roots by taking out a small mass of skin from the jaws of a Japanese, an Indian, an American, an African, so on and so forth in a large sample study.
[Source of this study is an article published in Times of India newspaper  some 5-6 years ago. Article is probably written by an Indian astronomer, i believe. Search Google or TOI archive gallery to find it waiting for your suspecting mind, if you please... 

They studied the DNA of all the samples and found out that the common factor in each of our DNA leads us to the fact that we are indeed sons and daughters of a single couple.

They also found out that human life started from Africa and later on with the migration that took place because of the survival issues, we are now settled where we are.
The climatic conditions then brought about the genetic mutations and made us look the way we look now.

The mind though still remains in the same ruling or autocratic state of perpetual sleep.

These findings mean that genetically we are offspring of a single parent though our physical features may differ.

The findings also render man-made divisions of cast, color, creed, religion, nations, language etc etc as a big big big political hogwash knowingly hyped-up by so called political leaders, cunning saints, fanatic dictators etc. etc. etc. to list a few from an endless list of such closed-minded people.

It means we are all one..
My common sense tells me that we are all uniquely UNIQUE...
My inner voice tells me that may be it is because of this intolerable fact that; 


Sorry, i digressed but it was needed. 

So, back again to the topic of infidelity with the above understanding in our minds and we find that infidelity issues do not exist If we choose to look at the whole coin. 

If we do so without bias, we find that it is only humans who marry in this entire universe and that too to curb down universal polygamy. 

Well, the institution of marriage is successful only till such time till ignorance is bliss. 
Once the truth comes out in its naked form, all love that we so far professed for each other in all our sincerity walks out of the door as abruptly as it came.

Its good that God didn't give us the capabilities to read each other’s mind or else we would have divorced each other earlier than we could ever fathom.
Well, that is so because we all do fantasize and what is fantasizing [about making love with some other body-mind or soul mate other than our legal spouse] but a sort of cheating or disloyalty, albeit only in thoughts?

Mind you, 
thoughts are no less real than materialistic reality or else God would have not been able to create this world in just seven days; Parmaatma vedas say just said Tathaastu to create this universe; Allahtaala too just needed to say kun faaya kun to establish this world.

If making out of two consenting adults concerns us so much then it not only tells us but also exposes our lustful mind to others announcing publicly that our limited mindset is still very very very sexual oriented; that we are still to know the love that exists in sex and the sex that persists in love; that we are still very insecure about the act of love and are indeed yet profoundly dependent on the other to make us happy. 

Oh !! what a grave ignorance and what a stupid slavery..?

Where does love start and where does sex end? 

Does sex with legal partner transform into love after marriage and does love with illegal partner turns into sex before marriage...; a sin so to speak? 

Is marriage a legal license to fornicate or it is indeed a lovely way to live a happy life in trustful companionship? 

Remember, that which breaks is not a TRUST but our own  EXPECTATIONS or the monster called 'ever-expecting mind'. 

Can we not learn to take sex as normal as it is from the animal and plant kingdom around us? 

Can we stop being so skeptical, finicky and fearful about it? 

One just cannot enjoy sex if one takes it any more seriously than the kind of pleasurable fun it is.

Tell me, as to why do we seek loyalty in the first place? 

Was it not love that brought us to the altar of marriage? 

Does true love demand anything in return? 

If it does it is not love but a business relationship.

In telling our spouse that you should only love me and no one else, are we not trying to make a chained dog/bitch out of them? 

Have we been successful in doing so even after centuries of such trial?

May be, where we err is in curbing or suppressing down the natural & basic instincts which then turn into even more powerful in their suppression and take an even more ugly & menacing form. 
Thereby, it outbreaks as a disease which is beyond prevention, cure or healing..

May be we err in considering love as integral part of life but choose to label sex as something disgraceful, pathetic or disrespectful part of our holy life, when in truth it is love of the nature for itself that makes it create itself in such a fantastic way that all energy turns into matter and all matter disintegrates to transform itself into energy.
[Herein, i am indeed considering NATURE as GOD]

Tell me,
Oh you writer of the infidelity story, as to what is creation but reproduction of the self...?

Wednesday, October 6, 2010

" दैनिक भास्कर ने मनाया Joy of Giving week.."

इस दिल-ए-नादाँ ने भी दिल से कुछ देने की जुर्रत की थी...,
अफ़सोस मगर...के क़ुबूल ना हुई वो भी, दुआओं की तरह..!!

भला भास्कर को कौन सिखा सकता है देने की कला..!!
                                      दिए चला जाता है वो खुद को जला जला...                                      एवज में मगर उसे कुछ भी दरकार नहीं..                                    चलो भास्कर से सीखी जाए देने की कला.. ये सच है की भास्कर को कोई नहीं सिखा सकता की देना क्या और कैसे होता है उलट भास्कर से ही सीखनी होगी हमें ये कला I  खासकर तब जब इसके सिरमोर खुद "रमेश" और "चन्द्र" हों I  पर क्या कीजिये इस दिल का जो जब भास्कर की तरह देने पे आ जाता है तो ये भी नहीं सोचता की उसकी कड़ी धुप से कोई जल भी सकता है I  दिल भी जब देने पे आता है तो भूल जाता है की उसके कड़े बोल-वचन किसी का दिल जला भी सकते हैं I और क्यों करे फिकर भास्कर किसी की ? उसे किसी से कुछ "लेना-देना" तो है नहीं I  वो तो बस अपने काम से काम रखता है, फिर कोई फले-फुले या जले I  इस दिल का भी कमोबेश यही हाल है I ना छपास की है भूख, ना इस बात की फिकर की कोई क्या सोचेगा I  एक ज़रा सी भी आस रख ले ये दिल बदले में कुछ चाहने की तो सच से दूर हो जाता है और कबीर साहब एकदम नाराज हो कह उठते हैं :
चाह गई, चिंता मिटी, मनवा बेपरवाह,

जिसको कछु ना चाहिए वो ही शहंशाह
अत्यंत हर्ष हुआ आज, २७ सितम्बर 2010 का दैनिक भास्कर देख कर की चलो आज के इस हवस पूर्ण युग में कोई तो है जो देने के सुख की बात कर रहा है I  भले ही बात हफ्ते भर में नहीं सिमट सकती पर फिर ये भी तो है की हर बड़ी चीज की शुरुआत छोटे से विनम्र प्रयास से होती है I साधुवाद आपका की आपने "दान" के विषय में हमें सोचने-समझने का ही नहीं बल्कि अपने जीवन में इसे उतारने का अवसर प्रदान किया है I ज्ञान दान, अन्न दान, समय दान से सम्बंधित आलेख पढ़ मन पुलकित हो जाना स्वाभाविक था पर जाने क्यों कुछ कमी सी खटकती रही दिल में और वो बार-बार उछल-उछल कर हमें खलील जिब्रान की १९२३ में छपी पुस्तक "पैगम्बर" की याद दिलाता रहा I खलील ने इस पुस्तक में जो कुछ दान के विषय में लिखा है वो अतुलनीय है I  खलील के छंदों में ख़ास बात ये होती है की वो अपने तर्क वहाँ से शुरू करते हैं जहां जाकर हमारे तर्क ख़त्म से हो जाते हैं I  खलील का नजरिया हमारी सोच को और व्यापक बना देने में सक्षम है पर केवल तब ही जब हम में सच को ज्यूँ के त्यूँ स्वीकार करने की मौलिक शक्ति हो I इस शक्ति के बगैर हमें सच कडवा ज़हर सा लगेगा I आने वाले ६ दिनों में भास्कर देने के सुख के विषय में अपनी बातें कह निश्चित रूप से हमें अनुग्रहित करेगा पर उस से पहले भास्कर से जुड़े परिवार के नवग्रहों को ही नहीं बल्कि अनगिनत सितारों को भी ये जान लेना सर्वथा उपयुक्त होगा की असल में दान या देना होता क्या है I  नहीं...?? इस ज्ञान की रौशनी में जब इबारत आपके कलम से निकलेगी तो स्वाभाविक रूप से हम पाठकों के लिए ना केवल ज्ञानवर्धक अपितु तुष्टिकारक भी होगी I इश्वर से इस प्रार्थना के साथ के ऐसा ही हो, खलील जिब्रान को उद्यत करता हूँ.. स्वीकार हो..
"तब एक धनि व्यक्ति ने कहा : हमें दान का अर्थ समझाओ I

उसने उत्तर दिया :

जब तुम अपनी भौतिक सम्पदा में से दान करते हो तो, तो कुछ ना देने जैसा होता है तुम्हारा दान I

आत्म-दान करना ही वास्तविक दान है I

तुम्हारी भौतिक सम्पदा उन वस्तुओं के सिवा और क्या है, जिन्हें तुम इस डर के कारण सबसे बचाकर रखते हो की तुम्हें कल उनकी जरुरत पड़ सकती है ?

और वह भी कैसा कल ? कल का दिन उस अति दूरदर्शी को कुत्ते को क्या देगा, जो पवित्र नगर के तीर्थ यात्रियों के पीछे चलता हुआ रेगिस्तान के बेनिशान रास्तों पर जहाँ-तहां हड्डियाँ छिपा दिया करता है ?

और जरुरत का डर क्या स्वयं भी एक जरुरत नहीं है ?

तुम्हारा कुआं जल से भरा हो, फिर भी तुम प्यास से डरो, तो क्या वह एक कभी ना बुझ सकने वाली प्यास नहीं होगी ?

कई लोग हैं, जो पास में बहुत कुछ रहते हुए भी बस थोडा सा अंश दान कर देते हैं और वह भी यश की कामना से I उनकी यही परोक्ष कामना उनके दान को अपर्याप्त बना देती है I

ऐसे भी लोग हैं, जिनके पास बहुत थोडा है और वे सारा-का सारा दे डालते हैं I

ये जीवन में और जीवन की सम्पन्नता में आस्था रखनेवाले लोग होते हैं और इनका भण्डार कभी खाली नहीं होता I
दुसरे हैं, जो कष्ट से दान करते हैं और यही कष्ट उनका ईमान बन जाता है I

ऐसे लोग भी हैं, जो दान करते हैं और उन्हें दान करते कष्ट नहीं होता, न उन्हें प्रसन्नता की कामना होती है, न पुण्य कमाने की I

ऐसा है यह दान, जैसे किसी एकांत घाटी में हीना अपनी महकती हुई साँसों को पुरे वातावरण में बिखरा दे I

ऐसे ही दाता के हाथों के माध्यम से परमात्मा का सन्देश सुनाई देता है और उसकी आँखों के पीछे से परमात्मा पृथ्वी की तरफ देखकर मुस्कुराता है I

किसी की याचना पर दान करना अच्छा है, किन्तु उससे कहीं अच्छा है, बिन मांगे स्वेच्छा से देना I

ऐसे मुक्त दानी को दान की क्रिया से अधिक आनंद इस बात से मिलता है की उसके दान से उपकृत होने वाला कोई व्यक्ति उसे दिखाई दे गया है I

संसार में ऐसा क्या है, जिसे तुम अपने लिए बचा कर रखना चाहो ?

तुम्हारे पास जितना कुछ है, वह कभी-न-कभी किसी और को मिल ही जाएगा I

फिर क्यों ना अभी दे डालो की दान का मौसम तुम्हारा हो, तुम्हारे वारिसों का नहीं ?

तुम अक्सर कहते हो, ' में दान करूँगा, किन्तु केवल उसे ही जो दान का अधिकारी हो I '

तुम्हारे उद्यान के वृक्ष तो ऐसा नहीं कहते, न ही तुम्हारे चरागाहों के पशु वृन्द I

वे देते हैं की जी सकें, क्योंकि न देना उनकी मौत है I

निश्चित ही जो दिनों को और रातो को प्राप्त करने का अधिकारी है, वह तुमसे बाकी चीजों को भी प्राप्त करने का अधिकारी है I

वह जो विश्व-प्राण के समुद्र के जल को पीने का अधिकारी है, वह तुम्हारी शुद्र सरिता में से अपना प्याला भरने का अधिकारी तो है ही I

किस रेगिस्तान की विशालता तुम्हारे द्वारा किसी के दान को स्वीकार करने की दृढ़ता की, साहस की......नहीं, दानशीलता की बराबरी कर सकती है ?

तुम होते कौन हो की जरूरतमंद लोग सिर्फ इसलिए तुम्हारे सामने अपने शरीर को चिर-फाड़कर दिखाएँ और अपनी इज्ज़त को बेनकाब करें की तुम उनकी औकात को, नंगेपन को और उनकी शान को शर्मिंदगी की हालत में देख सको ?

पहले यह तो देख लो की तुम स्वयं दाता बनने या दान का उपकरण बनने के अधिकारी हो भी या नहीं ?

सच पूछो तो जीवन ही जीवन को दान करता है, जबकि तुम, जो दाता होने का दंभ करते हो, केवल उस दान के गवाह बनते हो I

तुम जो जरूरतमंद हो, तुम कृतज्ञता के काल्पनिक भार को मत ढ़ोओ, अन्यथा तुम स्वयं अपने दाता के कन्धों पर भार रख दोगे I

अच्छा होगा की तुम अपने दाता के साथ मिलकर उसके उपहारों को ऊपर उठाओ, जैसे पक्षी के दो डैने मिलकर उड़ान भरते हैं I

क्योंकि ऋण के प्रति आवश्यकता से अधिक आभार जतलाते रहना उस दाता की उदारता पर अविश्वास प्रकट करना है, जिसकी माँ यह उदारमना धरती है और पिता स्वयं परमपिता परमात्मा है I "
आपका ही,
मनीष बड़कस

Thursday, September 23, 2010


मुद्दा ये नहीं की मंदिर वहाँ था या नहीं,
मुद्दा ये भी नहीं की मस्जिद वहां हो या नहीं,
मुद्दा ये है के राम हम में है की नहीं..
या खो गया है वो मुद्दई भी खुदाओं की तरह..??

भारत वर्ष को बचाने चले हैं कुछ हिन्दुस्तानी,
अमन का देखो किस कदर शोर मचा रहें ये हिन्दुस्तानी..

पुरजोर तैयारियां बयान कर रही है ज़मीनी हकीक़त,
फैसले की दस्तक से ही सुलग उठे हैं ये हिन्दुस्तानी..

लाख छिपा लो नफरतों को दिल के तहखानो में,
एक चिंगारी मगर होगी काफ़ी दिखाने को अपनी कारस्तानी..

आग भड़काने का इलज़ाम फिर लगेगा एक अदना चिंगारी पर,
तोहमतें भूसे के ढेर पर क्या कभी लगा पायेंगे ये हिन्दुस्तानी..

खैरियत इसी में है के फैसले कल पर टलते रहें,
साफ़ हो जाएगी तस्वीर वर्ना की कितना पाखंडी ये हिन्दुस्तानी..

खोखली बातें है ज़बान पर ''वसुधैव कुटुम्बकम'' की,
जय हिंद से ऊपर मगर कभी उठ ना सके ये हिन्दुस्तानी..

अमन का देखो किस कदर शोर मचा रहें ये हिन्दुस्तानी
इतना के डरता हूँ की कहीं कोई ग़दर ना हो जाए............................

Sunday, September 19, 2010


“The mind questions the whole life long and never receives any answer, and the heart never asks but receives the answer.”      Osho

Meditation, to me, is the art to be able to remain in the present moment all day & all night for all of our life..

That infact is the state of being aware & awake..

That is where the mind-body are in harmony..

That is when we become just a witness..

Then nothing escapes our attention..

Then we remain ever conscious..

That is what is bliss..

Blessed we are..

One tiny step is what we all need to take..

shall we..??

Meditation is a state of being & hence can't be done but it happens only when one makes a deliberate choice to be in the now & here...

When one willingly determines to be in the present moment come what may...

When one is courageous enough to accept life as it comes...

When one welcomes life, as it is, in the now & here...

When one trusts life & life-events without an iota of doubt to be nothing but a god sent gift...

When one decides to be patient for life to open up its mysteries...

When one stops to try & demystify life even when life seems to run havoc in our lives...

All these & more are but by-products of being in the meditative state of now & here..

It looks simple & arduous, at once, to be in the now & here..
It IS as we believe IT to be.

This is the only step that one needs to take, rest just happens..
Life waits for us to take this one step...
Awaits from an eternity to take the rest of the ninety-nine steps...........................................
  and that is so because man is  bad kase...........isn't he?