Saturday, May 16, 2015

when Things go wrong


When things go wrong, what do we do?
😳
One measure of spiritual maturity is the way we respond when things go wrong. If we give in to despair, doubt love or God's very existence, or blame some innocent person, we have some growing up to do.
😞😪😁
How about you? How did you respond the last time something went wrong? Did you fall apart?
👎
If so, you need to ask God for patience and a positive perspective to handle life's setbacks in a mature spiritual way which suits you practically too.
👍
When things go wrong ask God for strength and wisdom. Then thank Him for working to increase your faith.
I do.
😊👌😇✌
TOUGH TIMES TEACH TRUST.
Amen.
🙏

Yes, I'm sorry that in fighting your mind I start to fight with YOU.
🙀
I shouldn't have lost my cool or temper. Next time I'll hit my head or brain or my mind on a concrete wall to bring it down on floor.
😡
Punishing self for loosing self-control or balance seems to be a better option than yelling or using bad words for someone innocent.
👨
The best option is to let it go as it is going by doing nothing and instead just sit silently as a conscious witness or wise observer.
😌
What Do You Say?

Friday, May 15, 2015

BOREDOM - ऊब






BOREDOM:

Oh my God! I get bored so much from this boring world that you made
Oh! what was the need to make me a thinker that you made
Only animals do not get bored neither do they get sad
Most humans too do not feel the boredom as they keep themselves fully engaged
In their daily chores or their household duties they keep stay glad
Few others are busy in raising themselves in the human race
But what do a man drinking spiritual Sprite do?
Has not Alexander, the great taught him that life is indeed a disgrace
It allows you not to take anything back with you
So, why waste time in earning praise
Dostoevsky's brothers Karamazov sought suicidal vase
The other way round which comes in my mind the very other minute
Is to live a life not as a "doer" but as an "observer"
As a "witness" watching the life 'to be or not to be'.........



क्या करूँ, बहुत ऊब जाता हूँ मैं: 

क्या करूँ, बहुत ऊब जाता हूँ मैं
तेरे बनाये इस जगत में कुछ भी रोचक नहीं पाता हूँ मैं
क्यूँकर बनाया तूने मुझे इतना चिंतनशील, इतना विचारशील मनुष्य
जानवरों की भाँती ज़िन्दगी बसर नहीं करना चाहता हूँ मैं
हैं कुछ हमसफ़र जो खुद को उलझाये रखते हैं दुनियादारी के काम-धंधों में
फिर कुछ ऐसे भी जो व्यस्त हैं नाम-धाम-पैसा कमाने में
पर मुझ जैसा आत्मिक प्यासा कैसे बुझाए अपनी चरम प्यास
कहते हैं वो की Sprite - बुझाए सिर्फ प्यास बाकी सब बकवास
पर फिर सिकंदर जाते जाते ये भी सीखा गए जाकर के खाली हाथ
की ना कुछ लाया और ना कुछ ले जाता हूँ मैं
दोस्तोवस्की के ब्रदर्स कर्माजोव तो आत्मघात की राह दिखला गए
पर उसमें एक कायर भगोड़ापन पाता हूँ मैं
इस घिनोने ख़याल के साथ ही एक रोशनाई की चमक भी दिखाई पड़ती है मुझे
धुंधली ही सही ये दर्शक दीर्घा
पर कुछ करने वाला "करता" बनने के बजाए अब बस एक "गवाह" बनकर जीना चाहता हूँ मैं
देख ना…सब तरफ घूमघामकर फिर अपने में ही समा जाता हूँ मैं  
  
Man is bad case....isn't it?

Thursday, May 14, 2015

Watch out man!

Man is bad case....isn't it?


JUST BECAUSE YOU'VE BEEN GIFTED BY A MOUTH WITH TONGUE, TEETH & THROAT DOESN'T MEAN YOU CAN BLOW YOUR TRUMPET IN ANY WAY YOU LIKE OR UNCONSCIOUSLY PREFER.
Just because whatsapp or other apps are easily available to you doesn't mean you can use the technology as a monkey will probably use a shaving blade.

Watch out!!

MAN IS BAD KASE: Art of Messaging - I am browsing [MAN IS BAD KASE: Art of Messaging]. Have a look at it! http://manisbadkase.blogspot.in/2010/12/art-of-messaging.html?m=1

: Please do spare time to read the psychology behind forwarding certain messages.

Wednesday, May 13, 2015

 
All the ladies hold him in both their hands with love & care. Gentleman flaunt him like a trophy wife or a priceless lady.
....

Nobody can even imagine to leave without him.
....

Everybody is in love with him, my dear Einstein because his IQ is as good as yours & his EQ is a virtual virtue quite evident.
....

He is............??


SMART answer dude ;-)



Man is bad case....isn't it?

Impotent me

 
नपुंसक कहती है ये दुनियॉ मुझे तो क्या गलत
कहती है..!!..??..
मैं न माँ बना पाया किसी को, न बाप बन पाया किसी का, और तो और एक भला इंसान भी तो नहीं बन पाया मैं..

हे भगवान...मुझे उठा क्यों नहीं लेता तु?

मैं एक वासनामयी द्वैत हुँ

मैं एक श्राप हुँ औरत जात ही नहीं बल्की पुरी मानवता के लीए

कभी Manish Badkas बनकर देखा है? Its not easy to be a devil or a devil's advocate.

एहसान तुमने किया मुझे चुन कर प्यार करने के लिए

अब क्रीया- कर्म भी कर ही डालो

ये एहसान कब तक? 2025 तक?

दिल याने मन ना?

में हुँ ही घटीया और फिर भी तेरी महानता देख की तु फँसी भी तो मुझ जैसे घटीया शैतान से 😀😍😄

What a choice baby!!

YOU can bring the horse to the lake but you can't make him drink water

You're intelligent enough to understand it or you are fool enough to misunderstand it.

Take your own responsibility on your own self choices and deeds.

You are not strong enough to create a different soul less world. You are stuck in body and ruled by mind which knows not the oneness.

Proven IDIOTS are beyond training. 😀😄😜😃😖😖😖

Man is bad case....isn't it?

Tuesday, May 12, 2015

significantly insignificant

We might be a negligible part of this infinite universe but that we are indeed a part of it makes us significantly infinite.


kindle


चिराग दिलों के जलाए रखना मेरे पीया
उल्फतें हमारी बनाए रखना मेरे पिया
की रात बहुत अँधेरी है और सहर होने की दुर दुर तक कोई खबर नहीं
इस "दिवाने" दिल को न जाने क्युँ इश्क चंबे दी बुटी पर फिर भी बेइन्तहा यकी़न है
की
वो सुबह कभी तो आएगी आना ही होगा उसे
कब तक वो हमें युँ तड़पाएगी
कब तक वो युँ इतराएगी
तब तक वो बेखौफ हमें युँ सताएगी
के हम भी इबादत में बैठे हैं मुसलसल ईमान, धर्म और श्रद्धा लिए अल्फाज़ों में, तसव्वूर जज़्बातों में और मोहब्बत औका़तों में
हौसला भी तेरा, हम भी तेरे भले, बुरे जैसे भी हैं
हैं तो हम बस तेरे ही
रिश्ता ये जन्मों-जन्मों का है कोई कल-परसों की बात नहीं
युगों-युगों से हैं हम तेरे सतयुग-द्वापर-कलयुग यहाँ बहुतेरे
अद्वैत में अद्वैत को जी लेना किसी ऐरे-गेरे नत्थु खेरे द्वैत के बस की बात नहीं

II असतो मा सदगमय
 तमसो मा ज्योतिर्गमय II



Man is bad case....isn't it?

Tuesday, May 5, 2015

I'm a Rebel....

Man is bad case....isn't it?



 
I'm a rebel of Rang De basanti (a Bollywood super hit film having a song "I'm a Rebel...") style because they not only reject me but also try to dominate me by not letting me free from their cumbersome rules & regulations. They pseudo-intellectually term this homicide as 'progressive positivism' when in fact it is just a conservative materialism.
Don't worry. I'm very sure that they are incapable to comprehend this language of freedom which comes from devotional & unconditional LOVE & LOVE only :-)

ZORBA, THE BUDDHA

Man is bad case....isn't it?







 



ZORBA, THE BUDDHA:

अकेला ध्यान मनुष्य को गंभीर बनाता है और अकेला रागरंग (मस्ती) उसे छिछला बनाता है I अतः यदि बुध्द के एक हाथ में सितार और पांवों में घुंघरू बंधे हों तो जो छवी बनेगी वह है नये मनुष्य की अर्थात जो़रबा दि बुध्द की I ओशो ने पुरी मनुष्य जाती के लिए यह स्वप्न देखा है कि हर व्यक्ति में बुध्द का मौन हो और जो़रबा का उत्सव हो I
-(साभार "यैस ओशो" के मार्च अंक के पृष्ठ ४४ से )
मेरे देखे यही तो शिव जी की अकाल मुरत है I गंगा की पावनता, चाँद की शीतलता, तेज ध्यान का, हाथ में ञीशुलधारी डमरू और पाँव ज़मीन पर I
II शिवोSSSहम शिवोSSSहम II


Sunday, May 3, 2015

The Third eye with a new vision

Man is bad case....isn't it?
 
Death is an integral part of life, dear... That's why the I, me, my, mine & myself factors have to not only bend but in fact need to fall madly in love; unconditionally without a reason or logic. That's when true love rises & takes us to sanctity beyond time & space dimensions of life.
That's what a witness witnesses.

Keep watching....keep witnessing....without judging good or bad in anything whatsoever goes on in life. its just a humble suggestion. Try it if you wish to or else go as per you choice.
Read TERTIUM ORGANUM by P.D.Ouspensky it might help our curious mind to know the unknown without fear.





CORPORAL SIN

Man is bad case....isn't it?

..and then they trusted their mind more than their heart and hence couldn't ever live happily thereafter...


उफ्फ...ये इल्म का सेब कितना स्वादिष्ट है,
जो खा लेता है वो ही पंडीत हो जाता है,
ढ़ाई आखर प्रेम का भी बहुत बड़ा है इस हसीन सेब के आगे

Take some responsibility....please

Man is bad case....isn't it?




I know only one thing for sure and that is that I know nothing for sure.

Confused I am till the time I think.

Blessed I am the minute I just watch the world around & within as an observer.

THE OBSERVER IS THE WORLD and the world changes when we change ourselves.

No mind state with no prejudiced, conceptual, positive or negative thinking is the ZERO state. A zero, a nothing which manifests itself into many forms called world by the way we think or trust or see or look at it.

That's why our thinking matters so much. That's where our thinking (Abstract Noun) transforms into our resultant acts (Verbs) and Concrete nouns.

That's why we are held responsible for the kind of life we live - joyfully or sadly.

सृष्टा ही सृष्टि है
दृष्टा ही दृष्टि है
कर्ता ही कारक है




Saturday, May 2, 2015

C.C.E (COMMON CHANKYIAN ERA )

Strange as it may appear to our blaming minds, the truth is that we write our own destiny through the ink of our karma, with the pen of our choice.
So its dumb to blame god, others or the worldly systems for the state of our life.
To stay natural and to enjoy the walk in the garden of life while we are alive is a smart thing to do.
Our desire to reach the celestial heights, to touch the sky is extra-ordinary shall be surely fulfilled someday, in death if not in life.

These days i am horrified for humanity to observe that Chanakya and his political quotes are termed 'beautiful' in text messages.
Whatever happened to our sense of beauty or is it that our trust in honesty and simplicity has gone all too weak...??
Many a times i feel that we should alter the name of "mind' to 'DON'
Qki..,
"Don ko khush rakhna mushkil hi nahi namumkin bhi hai..."

A little piece of advice from my guru which has always provided peace and worked in my favour is this :
"Know yourself - not throgh the eyes or views or beliefs of the others about you but by following your own heart. That is the supreme knowledge on earth."
When you walk like this in the garden of life with your eyes wide open and awake, the so called fans of Chanakya will not like you. They will create troubles for you. They will isolate you. They will do whatever they can to stop you from becoming self-dependent, independent or free because it is your slavery that yields them tons and tons of sadistic pleasure.
Stay prepared to make this sacrifice but also remember that it is not sacrifice in the first place if it values or demands any other thing in return.

Have you observed yourself sending wishes to your nearest and dearest ones on special occassions and India being a festive country, the occassions are many.   
They are filled with desires or wishes of what they feel we have not. Never ever do they make you feel that you already have a HEALTHY, WEALTHY & PROSPEROUS life and if you dare feel so these CHANAKYIANS will call you unambitious person.
Oh! What a blasphemy!


Rumiyana verse

Man is bad case....isn't it?
पता है, यहाँ से बहुत दूर, बहुत दूर, सही और गलत के पार...एक मैदान है...मैं वहाँ मिलुँगा तुझे

Rumi, as a true lover himself of one and only one, wrote this for true lovers who are unable to meet and be one with the one whom they have chosen to be one with.

As a matter of fact they are indeed spiritually one with the one but they know or realize it not mentally.

May be because love is an abstract noun beyond transitive verbs or acts or mindedness.

They seek to be one physically too but can't live together or be together owing to or because of some silly world affairs, rules, regulations, traditions, conservatism, right & wrong doings etc. etc. etc.

Can you feel the pain of this age old separation of human beings with their God?


Friday, April 10, 2015

देशी दारू


कल शाम एक देशी शराब ने वो लुत्फ दिया दुबारा
की हम में बसे कई विदेशी जामों कि बज गई बारा
हो गए हम नौ दो ग्यारा...

माफी दई दो फिर एक बार सनम दिलदारा
माँ कसम फिर न झगडेंगे हम तुमसे कभी दुबारा
दई दो जनम दोबारा...

गुस्सा आया भी तो पी जाएँगे हम सारा
तेरी झील सी आँखों से पानी हम खारा
ध्यान रखजो हमारा...

लबों को दबा लेंगे अपने ही दाँतों से हम
ज़ुबाँ जो हमारी ज़हर उगलना चाहेगी दुबारा
तौबा की चीत्कारा...

तड़प जो हमें और भी तड़पाएगी
उड़ेल देंगे दिल की गलीयों में ग़म अपना सारा
थामा दामन तुम्हारा...

अब ना बाँटेंगे हम अपना किताबी ज्ञान किसी को
बह तो रही है जीवन में ध्यान की सतत मंगल धारा
सकल काज तुम्हारा...

चारों ओर छाई हुई है उसकी ही रास लीलाएँ
देखा करेंगे बस हम टकटकी लगाकर खेल ये सारा
वारी तुमपर यारा...

देगा वो दर्शन, करवाएगा वो मिलन दो जीस्म एक जान का
ये अटल-अटुट विश्वास है मुहब्बत पे हमारा
हाफिज खुदा हमारा...
हाफिज खुदा तुम्हारा...


Man
is
bad
case....isn't it?

Wednesday, March 11, 2015

जुर्म ये नहीं मेरी जान की.… Love is not a crime

Just yesterday I received a wonderful message from a close friend of mine. It goes like this:
 क्या हुआ… जो मेरे लब तेरे लब से मिल गए 
माफ़ ना करो…ना सही…बदला तो ले लो…
To which my soulful heart responded like this. Appreciate, if you like it. Live it if you are a true lover or else do whatever you please....of course...you're absolutely free to believe what you trust.
जुर्म ये नहीं मेरी जान की तेरे लबों से मेरे लब क्यूँ  मिल गए, 
जुर्म ये के देख ये हसीं नज़ारा ज़माने वाले जल गए.…
 जुर्म ये नहीं मेरी जान की.… 

मोहब्बत की हकीकत इस कदर नागवार गुजरी उनपे, 
की तबाह उनके सारे ज़मीनी ख्वाब हो गये…
 जुर्म ये नहीं मेरी जान की.…

जुर्म बड़ा जो था तो सजा भी बड़ी ही मिली, 
दिलवालों के मालिक दिमागवाले हो गये…
 जुर्म ये नहीं मेरी जान की.…

ज़ुल्म दीवानों की दीवानगी पे भला कब तक ढाते इश्क़ के दुश्मन, 
बंदगी दीवानों की देख काहिलों के भी आज तो सर झुक गये…
 जुर्म ये नहीं मेरी जान की.…
Now, please oblige me by once again reading the topmost lines with my additional input to it with due respect to the original writer of that thought. Needless to say that more than reading its more intelligent to read the message between the lines...
क्या हुआ… जो मेरे लब तेरे लब से मिल गए 
माफ़ ना करो…ना सही…बदला तो ले लो…
फिर एक बार.…  दिल से.... चुम लो तुम मेरे लबों को... मेरी जान 
देखें... इस बार इश्क़ की आग में कितने ख़ाक होते हैं... मेरी जान 


Man is bad case....isn't it?

Sunday, March 8, 2015

MEN TO WOMEN:

MEN TO WOMEN:


Women Oh Women!
I seek love in your eyes
I hear melody in your voice
Oh Yes! I fall in love with U
Well..Well..Well..!!
Is there any other choice?

Twin petals speak
Tongue ain't weak
Razor sharp thy memory
Nose ain't at peak

Rosy thy treat
Talker U are so sweet
Listener thy by heart
And worker you so neat

Please do accept my solemn greetings
Eagerly I wait for our splendid meetings
Nature ripens the time indeed
United we are with God's love and blessings.

MEN CELEBRATES LOVE LIFE WITH HAPPY WOMEN NOT ONLY ON THIS HAPPY WOMEN'S DAY BUT ALSO EACH & EVERY GOD DAY. AMEN.


Man is bad case....isn't it?

Thursday, January 22, 2015

जो है सो है - It is what it is


रोज रात मर जाता मैं 
सुबह फिर जी उठता हूँ मैं 
उम्र हो गयी चलते हुए ये नाटक-नौटंकी
जाने कौन जिलाता है मुझे यूँ 
जाने क्यों जिलाया जाता हूँ मैं

क्या वो तुम हो या है वो मेरा नसीब
क्या वो इश्क़-ओ-जूनून है या है कोई अज़ाब 

क्या वो सब्र-ओ-सुकून है या है वो कोई यकीन अजीब 
क्या वो कोई इब्तदा है या है वो कोई बेइंतेहा सा ख्वाब 

इम्तेहान है वो या है वो मेरे मनचले दिल की कोई बेजान सी तरकीब
दोस्त कहूँ मैं उसे या फिर मान लूँ कोई बेपरवाह रकीब 

जो भी है, है वो बड़ा दिलकश या है शायद कोई जानेमन हसीन....,

कभी साथ होता है वो मेरे मेरा हमदर्द बनकर 
तो कभी साथ देता है वो बनकर के मेरा हमसफ़र
हमनशीं बनकर निभाता है साथ कभी वो   
तो कभी हमसाया हो जाता है साथ मेरे जैसे साया कोई

सदियों से खेला जा रहा है ये खेल मुक़द्दर का मेरे साथ 
या फिर शायद, ये है मेरी गुस्ताख़ नियतों की सलीब 
तनहाई सोती है यूँ तो रोज रात मेरे साथ
अकेलेपन में मगर पाता हूँ मैं खुद को खुद के सबसे करीब

क्यों हुजूर, है ना बड़ी अजब-गज़ब ये इश्क़ की सौगात
हर सुबह उठाती है तनहाई मुझे बनाकर के 'दीवाना' ज़हनसीब 

ना-नुकुर करने की बड़ी ही मज़ेदार आदत है उनको
बड़ी नाज़-ओ-अदा से ज़ुल्फ़ें झटक के कहते हैं वो 
की कोई उम्मीद नहीं बची अब तेरे-मेरे मधुर मिलन की
जा मर जा यूँ ही तू बदनसीब 

पूछता हूँ बड़ी ही मासूमियत से मैं उनसे फिर 
की तय ही है जब सब तो जी रहे हैं हम यूँ मर-मर कर क्यूँ 

जाने क्यूँ है मुझे पूरा यकीन 
की गर उन्हें अपनी निराशा भरी सोच के दुष्परिणामों की ज़रा भी खबर होती 
तो वो कभी भी मेरी आशा भरी सपनो की दुनिया को दोषपूर्ण ना मान बैठते
जीने देते वो मुझे मेरे हाल पे, यूँ मुझे बीमार-ए-दिल ना मान बैठते  

क्या करें मगर मैं जो हूँ सो हूँ 
जो है सो है और जो नहीं है सो नहीं है.........!!

        


Man is bad case....isn't it?

Wednesday, January 14, 2015

Loneliness ain't Solitude - अकेलापन एकाकीपन नहीं

  1. Makar Sankranti marks the transition of the Sun into the zodiac sign of Makara rashi (Capricorn) on its celestial path. The day is also believed to mark the arrival of spring in India and is a traditional event. Marathi families celebrate the festival by giving til-gud to all and sundry. Kites are also flown to thank the air and to colour the sky. 
  2. Lohri and Pongal are the harvest festivals which are celebrated with pomp and show by Punjabi and Tamil families to thank mother nature for her givings to her children.
  3. अकेलापन एकाकीपन नहीं - तनहाई एकांत नहीं 
  4. ना तुम अकेले वहाँ, ना मैं अकेला यहाँ,
  5. संग दुनिया के झमेले और साथ मन मैला जहाँ,
  6. ये लम्बी जुदाई, ये बिछडन, ये तनहाई सताए हमें हर वक़्त,
  7. कैसे सजा लें हम ऐसे माहौल में एकाकीपन का मेला…
  8. माना के देनी होती है आज़ादी भी इश्क़ के साथ-साथ,
  9. बरसों बीत गए मगर थामे हुए तेरा नरम-मुलायम हाथ,
  10. तू ही बता दे अब ए रोशन सूरज,
  11. कब आएगी तेरे होते वो चाँद-सितारों की झिलमिल बारात,
  12. कब विदा लेगी ये ग़मगीन अंधेरों से भरी काली स्याह रात,
  13. कब ले सकेंगे ये दो जिस्म एक जान सात फेरे तेरे साथ..??...??....??.....
Man is bad case....isn't it?

Saturday, January 10, 2015

दिल की बातें

दिल की बातें दिल ही जाने 


आकर गिरा था एक परिंदा लहू में तर,
तस्वीर अपनी छोड़ गया एक चट्टान पर 

उसी वक़्त के लिए ही तो है ये सारी जद्दोजहद जब कर सकूँ मैं तुझसे तेरे दिल की बात,
कहूँ तो मैं अपनी जबान से कुछ और तुझे लगे की मेरी जुबान कहे तेरे दिल की बात 

मेरी बर्बादियों का मेरे हमनशीनो,
तुम्हे तो क्या मुझे भी कोई गम नहीं 

इसका रोना नहीं क्यों तुमने किया दिल बर्बाद,
इसका गम है की बहुत देर में बर्बाद किया 

मुझे तो याद नहीं तुम्हे खबर हो तो हो शायद,
लोग कहते हैं की मैंने तुम्हे बर्बाद किया 

बोल ना क्या करूँ मैं के तुझे सुकून मिल जाए,
हो बस तेरा तसव्वुर और तू छम से सामने आ जाए

 दिल से जो बात निकलती है असर रखती है,
पर नहीं, ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है 
  


Man is bad case....isnt it?

Sunday, January 4, 2015

कैसी तेरी राहगीरी- कैसे तेरी राह गिरी (राहगीरी - street smartness)

"अति का भला ना बरसना, अति की भली ना धुप,
 अति का भला ना बोलना, अति की भली ना चुप"
कैसी तेरी राहगीरी, कैसे तेरी राह गिरी  
 Light  नहीं थी, fog था,
प्रकाश था, रौशनी थी पर बिजली ना थी,
राह थी, राहगीर थे पर राहगीरी में ना था आज वो दम दमा दम दम,
ना ढोल थे, ना नगाड़े थे जो करते ढम ढमा ढम ढम,
ढक्कन थे बस कुछ, जो बेवजह भर रहे थे दम,
बगड़ बम बम बगड़ बम बम बगड़ बम बम 

नाद था, निनाद था, उत्साह था, उल्ल्हास था पर थी ना उनमे वो पहली सी उमंग,
ध्वनि का ना शोरगुल था, ना ऊऊऊऊऊऊ की चीत्कार थी,
और ना ही मचा रहा था कोई बेबुनियाद हुड़दंग,
जाने कौन उनकी इस लष्करी ललकार को सरेआम कर गया भंग,
बत्ती कर गया गुल वो इस prizeless फैशन परेड की,
ruthless स्ट्रीट smartness की,
मनमोहक नाज़-ओ-अदाओं की सुबह-सुबह ही,
जाने कौन घोल गया आज हवाओं में ये ज़हर,
आब-ओ-हवा में छ गया जैसे कोई मायूस मातमी रंग,
जाने कहाँ उड़ गयी वो 'ये जवानी है दीवानी' की मस्ती भरी तरंग,
मैं मलंग, मैं मलंग, मैं मलंग 

टेक्नोलॉजी की गुलामी आज फिर ज़ाहिर कर दी गयी हमपर बेधड़क,
आम दिनों की तरह ही आज भी सुनसान ही पड़ी रह गयी वो नामचीन शोशेबाजों की संडे वाली सड़क,
हाए....कब आएगी लौट के फिर वही चमक-धमक, वो करतल ध्वनि, वो तड़क, वो भड़क,
कब धड़केंगे सीने हमारे सुनकर के दिल की झनक, वो आत्मा की आवाज़, वो ऊँकार की धनक...??
कैसी तेरी राहगीरी, कैसे तेरी राह गिरी

"नूर-ए-खुदा,  नूर-ए-खुदा 
तू कहाँ छिपा, मुझे ये बता" 
        


Man is bad case....isn't it?

Thursday, January 1, 2015

नया साल आ गया है तो क्या करूँ?

तेरे दिल को ठेस पहुँचाना न मेरा मक़सद, न मेरी मंशा और न ही मन्नत है कोई...,
क्या करूँ मगर, मोहब्बत फिर मोहब्बत है, कारोबार नहीं कोई..!!



हाँ जी......तो नया साल आ गया है तो क्या करूँ?
ढोल पीटूँ, नगाड़े बजाऊँ, नाचूँ, गाऊँ, जश्न मनाऊँ
तुम्हारी ही तरह किस बात पे मैं यूँ इतराऊँ  
तुम्हारी अदाओं पे मैं कैसे जाऊँ वारी
ना जी...हमसे ना हो सकेगी ये मक्कारी 
दुश्वार हमें ये मुहँ दिखाई की रस्म 
पीला दो चिलम या फिर कर दो हमें भस्म
आप कहो तो झूम के बरस जाऊँ काले-काले बादलों की तरह 
या फिर बहने लगूँ जिस्म-जिस्म में बन के शीत -लहर 
आप हुकुम करो बादशाहो तो मर-मिट जाऊँ इश्क़ की तरह 
या फिर उगलूँ आग पी के मीरा वाला ज़हर 
रोज ही तो मर-मिट रहें हैं तेरे रोजनामचे मैं हम
लड़-झगड़ के तेरे नाम पे ज़िन्दगी को जहन्नुम बना रहें हैं हम 
यूँ लम्हा-लम्हा भाड़ में ही तो जी रहें हैं हम 
किसी ख्वाबगाह का नहीं दिखाई पड़ रहा कोई नामोनिशान 
यूँ कहने को मंगल की बुलन्दियों को छू रहे हैं हम
जाने कब इंसानियत की, नेकी की, दीन-ओ-ईमान की बुलन्दियों को छुएँगे हम 
एक अरसा हुआ 'दीवाने वारिस' लिए हुए तुझे इश्क़-ओ-जूनून की कसम
हाफ़िज़ पिया के सदके "मज़े हैं प्यारी के" चाहे जितने ढा लो तुम सितम
सुना है हमने की सही और गलत के मैदानों के पार है वारिस पाक का महल 
देखते हैं किस दिन मिलेंगे वहाँ दो जिस्म बन के एक जान
तब तक तो यूँ ही मनाते रहेंगे हम हैप्पी न्यू ईयर ओ मेरे सनम...      

Man is bad case....isn't it?

Sunday, December 28, 2014

Good and Bad

I'm good if you think so. I'm bad if you signify so...right..??


God is the One who determines what is good and what is bad.

How..??


Not as per going on our wishes, prayers or plannings but by seeing whether or not our being is accomplishing His plans or not. God is good but that doesn't mean we are bad because but for Him nothing existed, nothing exists and will ever exist. He is the existence indeed, existing in infinite manifestation called Life. He is Alpha. He is Omega.

The good God makes His omnipresence seen and felt by us by lovingly sharing His 'O' with us.
So, when things look bad, do remember and realize that God is holy, whole and good.

Have a God day....



Man is bad case....isn't it?

Sunday, December 21, 2014

copy-paste Shaayari

Thanks to my sms, whattsapp friends and also to Javed Akhtar Saheb who personally shared this sher-o-shaayari with me. I'm taking undue risk with ishq thinking that you'll be able to not only comprehend it but also find your mind capable enough to digest the ingredients within. Inshaallah - God bless you ;-)



मुश्किल है दौर इतना और उम्र थक गयी 
अब किससे जाकर पूछें मंज़िल किधर गयी
बाज़ार में जा पूछा, इंसानियत मिलेगी?
सब ने हँसते हुए कहा, वो तो कब के मर गयी

दिन में धुप तपे, रात में चाँदनी 
कैसी ये ज़िन्दगी, सुबह-ओ-शाम अनबनी 

बदलना चाहते हो तो शौक से बदलो पर इतना याद रखना… 
जो हम बदले ओ करवटें बदलती रह जाओगी

बात ये नहीं है की तेरे बिना जी नहीं सकते;
बात ये है की तेरे बिना जीना नहीं चाहते 

तजुर्बों ने हमें खामोश रहना सिखाया..
कुत्ते भोंकते हैं अपने ज़िंदा होने का एहसास दिलाने के लिए …
मगर 
जंगल का सन्नाटा शेर की मौजूदगी बयाँ करता है 

उसे भूलना होता तो कब का भुला देता 
वो मेरी रूह-ए-मोहब्बत है, कोई तमाशा नहीं 

तुझ बिन रात गुजरती ही नहीं.......
वक़्त की आँख लग गयी हो जैसे 

टाइम ना कर अपना खराब अपना ए ग़ालिब, जमकर पी ले 
लिवर तो ट्रांसप्लांट हो जायेगा पर बीता हुआ वक़्त तू कहाँ से लाएगा

समेट लो सितारों को अपने हाथों में
बहुत देर तक रात ही रात रहेगी 
मुसाफिर हैं हम भी 
मुसाफिर हो तुम भी 
कहीं ना कहीं तो मुलाक़ात जरूर होकर रहेगी 

बुलंदी की उड़ान पर हो तो ज़रा सबर रखो,
परिंदे बताते हैं की …… आसमान में ठिकाने नहीं होते ....

किसी टूटे हुए मकान की तरह हो गया है ये दिल,
कोई रहता भी नहीं और कमबख्त बिकता भी नहीं 

हम तौर-ए-इश्क़ से तो वाकिफ नहीं लेकिन,
सीने में है एक दिल जो मला करे है कोई

तेरी ख़ुशी से अगर गम में भी ख़ुशी ना हुई,
वो ज़िन्दगी तो मोहब्बत की ज़िन्दगी ना हुई 

मियाँ वो दिन गए, अब ये हिमाक़त (नासमझि, बेवकूफी) कौन करता है
वो क्या कहते हैं उसको.... हाँ - मोहब्बत - मोहब्बत अब कौन करता है      
   

Monday, December 15, 2014

न्याय की देवी हो तुम - GODDESS OF JUSTICE, YOU ARE


न्याय की देवी हो तुम
Lusticia हो या Justicia हो तुम
जो भी हो बहुत निपुण हो तुम
इस आदम की भी सुन लो एक गुहार तुम
अपने जिस्म के दो हिज्जे करना चाहता है ये आदम
एक हिस्सा दिल के साथ रहने को है बेक़रार
तो दूसरा हिस्सा मन के साथ रहने का है दिल-ओ-जान से तलबगार
कौनसा हिस्सा किसका है - मालुम नहीं
क्या आत्मा को रहना होगा बन के ज़िंदा लाश - मालुम नहीं
तुम ही करो अब न्याय की न्याय की देवी हो तुम
तोड़ ही दो आज मेरे सारे भरम
बता ही दो की क्या है मेरा धरम
कैसे जियूं के फूटे ना मेरे करम
जानता हूँ, पढ़ा-लिखा हूँ की
"चलती चाकी देख के दिया कबीरा रोये,
दो पाटन के बीच में साबूत बचा ना कोये"
फिर भी तहेदिल से पुकारता है तुम्हे आज ये आदम
हो रहम, हो रहम, हो रहम
यूँ ना ढाइए मुझ गरीब पे इतने ज़ुल्म-ओ-सितम
कुछ तो कहिये की आपके फैसले के इंतज़ार में
बैठे हैं कबसे आपकी राहगुज़र पे हम
माना के सबसे मोहब्बत करने के गुनहगार हैं हम
माना के सिवाए 'इश्क़' के किसी और के वफादार नहीं हैं हम
सच्चे पातशाह की राह में एक नासूर ज़ख्म हैं हम
इल्तिज़ा मगर ये है की हमारे सब्र-ओ-ईमान के इम्तेहान हो ज़रा कम
माना के इन्तहा नहीं हमारे दिल-दरिया की
माना के दिलदार नहीं, बादाखार हैं हम
यकीन कीजिये मगर ए हुजूर, के दिल-फरेब भी नहीं हैं हम
माँ कसम, माँ कसम, माँ कसम
हो रहम, हो रहम, हो रहम   
 

Man is bad case....isn't it?

Tuesday, December 2, 2014

X-mas -A season of hope


X-mas hope:

Adam and Eve in Eden Gardens lacked nothing and hence needed not to hope for anything;
But then the devil's serpent offer came with an allurement witch(pun)  they both accepted readily with indulgent lure;
Greedily they ate the God forbidden fruit of Knowledge: Knowledge of good and evil;
They got what they wanted: KNOWLEDGE.
But they lost what they had: INNOCENCE.
With the loss of innocence came the need for hope-hope that the guilt and the shame could be removedand goodness restored.
CHRISTMAS IS THE SEASON OF HOPE.
Jesus with his benevolent crucifixion not only bought our redemption but also earnestly forgave our sins.
Moreover, he made it possible for us to be wise about what is good and innocent about evil temptations.
Praise God for the hope of Christmas!

*(with due acknowledgement the above write-up is taken from -Julie Ackerman Link posted on December 2, Tuesday page of 2014 Annual Edition of OUR DAILY BREAD)* 

Sunday, November 9, 2014

दिल की बातें - heart talks

http://youtu.be/a-9tKVYD4o4
दिल से निकली बात असर रखती है 
पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है 

http://youtu.be/lUWdgxyYNg8
जाग के काटी सारी रैना
नैनन में एक बूँद छिपी थी 
सुबह ले आई अश्कों का गहना 
नफरतों की माला पहनकर ही 
आया मनवा को चैना
रात भर लिपटे रहे नाग-नागिन 
गले में उन्होंने अमावस विष पहना 
रोशन हुआ जगत अंधियारा तप के
यारों को यारब से कुछ न पड़ा कहना 
बेजुबान हैं ये गल्लाँ इश्क़ दी
नैनो विच गल्ल करदे हैं नैना 
जाग के काटी सारी रैना...

ज़िंदा है चंद लोगों में इंसानियत अब भी अगर 
तो कोई गिला नहीं कोई गम नहीं...,
सुना है आदम और हव्वा से एक-एक कर 
७ अरब+ तक जा पहुंची है ये आबादी..!!
http://youtu.be/iwSlzmszpbI


तू अजीब 
तेरी दास्तान अजीब 
और तेरा नाम तो और भी अजीब
फिर उससे भी अजीब-ओ-गरीब है तेरा प्यार
कहते हैं लोग के फूटा है तेरा नसीब
की मिला भी तुझे तो एक बद्तमीज़ गरीब 
दाग लगा गया जो तेरे दामन पर जैसे सलीब 
मेरी छोड़;
मेरा किस्सा कुछ और ही है
मेरे हिस्से आया कुछ और ही है
तुझे पा के हुआ हूँ ज़हनसीब 
तुझे पाया है मैंने सबसे करीब
ज़हनसीब ज़हनसीब ज़हनसीब
http://youtu.be/WnU0lH6C0EA

Sunday, October 26, 2014

How are you, today?


Mornings are Good
Days are Sunny
Evenings are Dusky
and 
Nights are Godly 
when;
YOU wake me up with a Smile,
Sun-shine my day with a cup full of Kisses,
Bless my Eve with a Saffron beauty
and
Make my night a loving play time
Oh Yes!
I call every such day a Lovely Day - a God Day

I know it ain't easy to Stay Cool
but please do make an effort to stay cool
Just keep on watching your own thoughts from a distance
As they pass by your own mind
Oh Yes! They certainly doesn't belong to some fool
Just observe your own intangible Emotions
Without absorbing them tangibly
Know that they are indeed YOURS
But certainly they aren't YOU
Well, are they..??

I know its difficult to Live Life Like a Child
Who keeps on Enjoying Every second of it 
By not only keeping his/her own Mind neat and clean 
But also keeping his/her Heart alive, fresh and kicking
Oh Yes! We made it even more difficult by growing up 
and 
by indulging in eating that apple of Knowledge of good and evil
Ignorance once happened to be a Bliss
But now even sacred innocence is construed as a Piss

Oh Yes! 
Life is as easy as ABCD for all those
Who read their own Minds 
And know the 'Art of Living' a detachedly attached Life
By living every moment Now & Here 
And accept it with gratitude - the way it comes
Oh Yes! 
Life ain't a disease if we take it with ease

Oh Yes!
You can try to make every body's mind happy 
By abiding by their concepts & rules & regulations
But do take care lest you loose your own happiness in the process
Cause my always_being_in_happy_state Soul says
That it ain't easy to make any mind happy for a longer duration of Time
Not because it doesn't want to be happy 
But because it's not its nature to Stay Happy, Cool, Content or Healthy
Sadness, Heat, Discontent and Disease come along with it all the while
As an integral part of a two-faced coin called Life

To Choose one over another is mind's nature
To make YOU divide wholesome ONE into 'others' is its role
To create an infinite delusion from a unified infinity is its whole and sole duty
To open a sure shot door to lead a hell of a life is in its core
And so, how can we call it a whore?
Nay, it can't even be termed a disease
It is just the way it is
Oh Yes! It is just the way it is

Oh Yes!
The choice is, was and will always be totally ours and ours only
No matter what every Tom, Dick & Harry tells YOU
God has given this power of choice to every Jack 'n Jill
Oh Yes! 
This is most certainly the gift given to us by a freedom loving God
Who watches us every moment to see
What are His children doing with His beyond time gift called the PRESENT 
    
 


Man is bad case....isn't it?